Ekta Kranti News

Best News Network Mandi Adampur

Ekta Kranti News

खेती कानूनों पर किसानों का नहीं देखा गया दर्द, सोशल मीडिया पेज पर लाइव होकर खाया जहर, बोला: पीएम मोदी मेरी मौत जिम्मेदार

खेती कानूनों के विरोध में जहां पिछले 128 दिन से चल रहा धरने-प्रदर्शन का दौर खत्म नहीं हो रहा, वहीं हक की जंग में हार मानकर जान देने का सिलसिला भी जारी है। मंगलवार को एक और किसान ने आत्महत्या कर ली। हालांकि इन दिनों यह शख्स एक निजी स्कूल का संचालक था। आज उसने अपने आपको अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव वीडियो में दिखाते हुए जहर खा लिया। मरने से पहले उसने यह भी कहा है कि किसानों का दर्द अब और नहीं देखा जाता। हालांकि इस दौरान उससे जुड़े काफी लोगों ने कमेंट करके समझाने की कोशिश की, लेकिन उसने अपना फैसला नहीं बदला।

मृतक की पहचान रोहतक शहर के रैनकपुरा मोहल्ले में रह रहे 50 वर्षीय मुकेश डागर के रूप में हुई है। वह बालक नाथ कॉलोनी में एक निजी स्कूल चलाते थे। मंगलवार को उन्‍होंने अपने सोशल मीडिया पेज पर लाइव होकर कहा, ‘लॉकडाउन के चलते काफी समय से स्कूल बंद हैं। पिछले तीन माह से अधिक समय से किसान आंदोलन कर रहे हैं,लेकिन उनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है। आए दिन किसानों की मौत भी हो रही है। फिर भी सरकार गंभीरता नहीं दिखा रही है। इस वजह से वह काफी परेशान हूं। किसानों का दर्द अब और नहीं देखा जाता’।

मुकेश डागर ने अपने परिचितों और दोस्तों से कहा, ‘यह मेरी आखिरी मुलाकात होगी। इसके बाद मैं इस दुनिया से चला जाऊंगा’। हालांकि इस दौरान काफी लोगों ने कमेंट कर समझा रहे थे कि इस तरह का कोई कदम ना उठाए,लेकिन मुकेश डागर नहीं रुके। उन्होंने जहर खा लिया। सूचना के बाद थाना सिटी प्रभारी राकेश सैनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके से अनाज के कीड़े मारने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक खतरनाक किस्म के जहर का पैकेट बरामद किया है। फिलहाल शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजने के साथ ही परिवार के लोगों से बात की जा रही है कि क्‍या मुकेश पहले से ही परेशान थे। क्‍या कोई और भी ऐसी वजह थी।

Comment here

error: Content is protected !!