AdampurHaryana newshisar

इधर अध्यक्ष ने बैठक कर भंग की कार्यकारिणी, उधर संरक्षक सहित कई पदाधिकारियों ने दिये इस्तीफे

मंडी आदमपुर


आदमपुर की जनसेवा समिति की एक बैठक सोमवार को समिति के कार्यालय में प्रधान उग्रसेन ऐंचरा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में वर्तमान कार्यकारिणी को भंग करके नई कार्यकारिणी के गठन को लेकर विचार-विमर्श किया गया। बैठक के दौरान सर्व सम्मति से फैसला लिया गया कि नई कार्यकारिणी के गठन से पूर्व समिति में नये सदस्यों को जोड़ा जाये ताकि वे क्षेत्र को समस्याओं को पहले से ज्यादा मजबूती से उठाकर उनका समाधान करवा सके। इस दौरान बैठक में उपस्थित सभी लोगों ने फैसला किया कि जब तक नई कार्यकारिणी का गठन नहीं होता तब तक उग्रसेन ऐंचरा समिति के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभालेंगे। बैठक के बाद हरभगवान भारद्वाज, साधुराम जांगड़ा, संदीप बिल्लेवाल, नरसिंह ज्याणी, मनोज कुमार, मोहित कोचर, राजकपूर नेहरा, रामचंद्र झुरिया, ज्ञानचंद मोंगा ने नई सदस्य के रूप में सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर रामनारायण गोदारा, कृष्णलाल सुथार, रमेश ओझा, रामरत्न बिश्नोई, हीरालाल शर्मा, ओमप्रकाश कनवाडिय़ा, राजकुमार जांगड़ा, अरविंद भाखर, अजय मित्तल, कृष्ण मिंडा, सीए शिवा भारद्वाज आदि उपस्थित रहे।

  • संरक्षक सहित कई पदाधिकारियों ने बैठक में ना आकर दिये इस्तीफे
    जनसेवा समिति के संरक्षक विनोद वर्मा, उपप्रधान मोतीलाल गोयल, कोषाध्यक्ष कृष्ण गोयल, प्रचार सचिव संजय सोनी ने सोमवार को बैठक में ना आकर अपना सामुहिक इस्तीफा लिख कर समिति के अध्यक्ष उग्रसेन ऐंचरा को भेज दिया। इस्तीफे में उन्होंने कहा कि संस्था के संचालन व कार्यक्रमों में पदाधिकारियों व सदस्यों की अनदेखी की जा रही है। इसके अलावा गिने-चुने पदाधिकारी अपनी मनोपली से कार्य कर रहे है जिसके चलते वे संस्था में कार्य करने में असमर्थ है और वे मजबूरन इस्तीफा दे रहे है। उन्होंने कहा कि उनकी एक सोच है कि संस्था को राजनीति व जातिवाद का अखाडा ना बनाकर जनता की भलाई के कार्य किये जाये।

समिति की कार्यकारिणी भंग करने के बाद इस्तीफे देने का कोई औचित्य नहीं बनता। संस्था के संचालन व कार्यक्रमों में किसी भी पदाधिकारी या सदस्य की अनदेखी नहीं की जाती। सभी को बराबर का मान-सम्मान दिया जाता है और रही बात संस्था को राजनीति व जातिवाद का अखाडा बनाने की तो समिति में सभी बिरादरी के लोग सदस्य है एवं समस्याओं के समाधान के लिए उन्हें किसी भी पार्टी के नेता के पास जाना पड़े वे जाते है।

  • उग्रसेन ऐंचरा, अध्यक्ष जनसेवा समिति।

Comment here